Hardoiदेशराजनीतीराज्यहोम

जिला प्रशासन की बड़ी उपलब्धि साबित हुआ इलेक्शन कमांड सेंटर, निष्पक्ष एवं शांतिपूर्ण सम्पन्न हुआ चुनाव, देखें वीडियो

आकाश शुक्ला, ब्यूरो

हरदोई।पूर्व की भांति इस बार के विधानसभा चुनावों में जहां राजनीतिक सरगरमी तेज़ है वहीं प्रशासन भी अछूता नही रह गया है और चुनाव को निष्पक्ष एवं निर्भीक करवाने के लिए पुख्ता इंतज़ामात किये हुए हैं।इस बार जिले में इलेक्शन कमांड सेंटर को स्थापित किया गया है।इस कमांड सेंटर के माध्यम से सुबह 7 बजे से ही मुख्य विकास अधिकारी आकांछा राणा की टीम सभी मतदान व मतदेय स्थलों का जायजा लेने में लगे हुए हैं।इस हाईटेक सेंटर के जरिये वेब कास्टिंग के जरिये सभी स्थलों पर नज़र रखी जा रही है।साथ ही सभी केंद्रों पर अलग अलग समस्याओं के लिए हेल्पलाइन नंबर भी उपलब्ध कराए गए हैं।वहीं इस बार मतदान फीसद बढ़ाने के लिए स्वीप कार्यक्रम और बुलावा टोलियों को भी लगाया गया है।

बुलावा टोलियां घर घर जाके कर रही जागरूकता का प्रसार:

हरदोई जिले में आठ विधानसभाओं पर कुल 85 प्रत्याशी अपनी किस्मत आजमा रहे हैं।तो इन सब के बीच चुनाव के उस पर्व को निष्पक्ष और निर्भीक सम्पन्न कराने के लिए जिला प्रशासन ने भी पुख्ता इंतजाम किए हैं।यहां बने हाईटेक इलेक्शन कमांड सेंटर का माहौल भले ही किसी बड़े इलेक्ट्रॉनिक चैनल का लग रहा हो लेकिन ये कोई स्टूडियो नहीं बल्कि चुनावी तैयारी का एक अहम हिस्सा है।आज सीडीओ आकांछा राणा के साथ ही करीब 50 सरकारी कर्मचारी टीवी स्क्रीन के आगे बैठ कर पूरे जिले के 3501 बूथों व 2114 मतदान केंद्रों पर नज़र रख रहे हैं।इसी के साथ सीडीओ ने एक बुलावा टोली भी गठित की है जिसमें स्काउट गाइड के बच्चों की टीम लगाई है जिनका काम लोगों के घर घर जाके उनको मतदान करने के लिए प्रेरित करना है।साथ ही ऐसे लोग जिनको मतदान स्थलों तक पहुंचने में असुविधा हो रही है उनको मतदान केंद्र तक लाने का इंतज़ाम करने की जिम्मेदारी भी इन्हीं बुलावा टोलियों को दी गयी है।

शिकायतों का हो रहा तत्काल निस्तारण:

सीडीओ ने बताया कि हर केंद्र पर अलग अलग समस्याओं के लिए हेल्प लाइन नम्बर्स उपलब्ध कराए गए हैं।अगर किसी को वोट डालने से लेकर मशीन की खराड़ी आदि समस्याएं आती है तो वो तत्काल उन नम्बरों पर कंट्रोल रूम में सूचना देगा जिसका तत्काल निस्तारण कराया जाएगा।उन्होंने बताया कि सुबह मतदान शुरू होने के बाद से तमाम शिकायतें भी आई हैं, जिनमें फ़र्ज़ी वोट पड़ने की शिकायत से लेकर मशीन की खराबी आदि शिकायतें शामिल हैं।इन सभी समस्याओं को सूचना प्राप्त होते ही निस्तारित भी करवा दिया गया।साथ ही सोशल मीडिया की टीम भी ट्विटर पर एक्टिवि है और ट्वीट मिलते ही उसका निदान कर उस ट्वीट के रीट्वीट किया जा रहा है।

स्वीप कार्यक्रम से बढ़ सकता है मतदान फीसद:सी

डीओ आकांछा राणा ने बताया कि मतदान फीसद बढ़ाने के लिए इस बार चलाए गए स्वीप कार्यक्रम का भी असर देखने को मिल रहा है।लोग बढ़ चढ़ कर चुनावी पर्व का हिस्सा बन रहे है।पूर्व में 50 से 60 परसेंट के अंदर रहा मतदान फीसद इस बार बढ़ेगा या नही ये देखने वाली बात जरूर होगी।

Related Articles

Back to top button